Monday, 15 August 2011


तुमको  याद किया  हर  लम्हा

पर  न  दस्तक  दी  तेरे  दरवाजे  पे ,

गुम  हो  गए  मेरे  आंसू  अपने  ही   शानो  पे,

 तुम   को न हुई  खबर  अपने दीवाने  की .

No comments:

Post a Comment