Friday, 2 September 2011

 ख़ामोशी  का  तो  अब  कम  नहीं  दुनिया  में
..इस कोलाहल  में  वो  दिल  ही  कहाँ  जो  उसे   सुन   सके !!

No comments:

Post a Comment