Wednesday, 19 October 2011

एक  तरफ़्  तुम  हो  एक  तरफ़्  ये  जग  मुआ 
जो   तेरी  नज़र्  हुई   मन  ये  पुलकित  हुआ 

1 comment: