Tuesday, 11 October 2011

आंसू जो आँख से बह जाते हैं 
तेरे और करीब ले  आते हैं 

तेरे दीदार की तारीख  तये  नहीं होती 
आँख की कोर यूँ ही नम नहीं होती

आँख रोती है फिर भी मुस्कुराते हैं
सब्र करते हैं और बेसब्र हो जाते हैं
भुलाने की कोशिश में हर घडी याद करते हैं


 ur pain brings u closer to God.. 

date of death is not known and the wait is painful..



No comments:

Post a Comment