Friday, 21 October 2011


हमदम  मेरे 
साथ  चल  कदम  दो  कदम
भूल  जाये  हम  अगर
न  भूल  जाना  तुम
आवाज़  दे  बुलाना  फिर
कि चले  थे  साथ  हम
कभी  कदम  दो  कदम 

1 comment: