Monday, 19 December 2011

तुम्हे  आवाज़  दे  बुला  लू  ये  मुमकिन  नहीं 

तू  आए या  न  आए  मेरे  बस  में  नहीं 

मेरी  हर  बात  तू  मान ले  मेरे  हक़  में  नहीं ....

No comments:

Post a Comment