Wednesday, 28 December 2011



क्यों   जुडती  जा  रही  है  जिंदगी  तुमसे 
खयालो  की  हर  राह पहुच  जाती  है  तुम  पे 

No comments:

Post a Comment