Tuesday, 7 February 2012



मेरी रूह निकल जाये पिंजरे से जब

मेरी यादों को भी सुला देना कही

न करना अफ़सोस उन बातों का

 दुःख हुआ हो तुम्हे जिनसे कभी ..

No comments:

Post a Comment