Saturday, 3 March 2012

एक डोर जो बाँधी थी 


बड़े प्यार से


रेशम सी नाज़ुक है


ना उलझाओ इसे.


टूट ही ना जाएँ 


सुल्झा लो जरा दुलार से ..

No comments:

Post a Comment