Thursday, 8 March 2012


तेरे  लिखे  को  कौन  मिटा  सकता  है 

देने  हो  गम  या  ख़ुशी  बस  ज़रिये  बदल  दिया  करता  है ....

No comments:

Post a Comment