Thursday, 8 March 2012


तू  एक  बार  तो  ले  मेरी  जगह  ए  मुसाफिर 

चोट  भी  लगती  है  ठोकरों  से 

 तुझे  भी  तो  हो कुछ  खबर ..

No comments:

Post a Comment