Monday, 19 March 2012

क्यों न मेरे रास्ते तेरे दर से जाते हैं
दूर क्यों हो इतने कि न तुम
 न तेरेअक्स नज़र आते हैं..

No comments:

Post a Comment