Saturday, 19 May 2012

 मैं जानती  हूँ के  नहीं बस में मेरे कुछ  भी
क्यों उम्मीदों ने  यु अलख  सी जगाई है  ...

No comments:

Post a Comment