Saturday, 19 May 2012


शाख के पत्तों को झूम लेने दो ज़रा..


कौन जाने कब कोई झोंका उड़ा ले जाएँ..


shakh ke patton ko jhoom lene do..


kaun jaane kab koi jhonka uda le jaye..

No comments:

Post a Comment