Sunday, 20 May 2012


वो केह्ते हैं मसरूफ हु दुनिया के तमाशो मे, परेशान ना कर  दिल कि बातो से
हमने कहा मसरूफ हम भी हैं , किया करते हैं उनसे बातें अपने खयालो मे..

No comments:

Post a Comment