Saturday, 19 May 2012

hasarat hi rahi ki tum poocho aur mai bataun, 


apne har raz se taarruf karau,


 na malum kis baat se khafa ho jao..


yahi soch mai chup reh jaun..





हसरत ही रही की तुम पूछो और मै बताऊँ, 


अपने हर राज़ से तार्रुफ कराऊँ,


 ना मालूम किस बात से खफा हो जाओ..


यही सोच मै चुप रह जाऊँ..

No comments:

Post a Comment