Saturday, 19 May 2012

Lutfa tha 

jab


tum the


waqt tha


yaraana bhi tha



hai waqt


ab bhi, khalee sa


kuch yaadon ki jhaanki saa


ankahi baaton ka


kuch ranjishon ka


bematlab si kahaniyon kaa..

tum nahi..


par Lutfa hai..


aansuo me doobi


beeti baaton kaa..




लुत्फ था 


जब


तुम थे


वक़्त था


याराना भी था...






है वक़्त


अब भी, खाली सा


कुछ यादों की झाँकी सा


अनकही बातों का


कुच रंजिशो का


बेमतलब सी कहानियों का..


तुम नही..


पर लुत्फ है.
.
आंसुओ मे डूबी


बीती बातों का..


No comments:

Post a Comment