Friday, 13 July 2012

तेरी झोली में कुछ नहीं होगा कम 
कभी किसी (मायूस) के मुस्कुराने का सबब तो बन ..
शालिनी

No comments:

Post a Comment