Monday, 23 July 2012

तू जीत लेगा जहाँ की हर शेह 
नाउम्मीदियों को न करीब आने दे 
तेरे साथ हैं और तेरे साथ रहेंगी 
उन दुआओं को रंग लाने दे..

No comments:

Post a Comment