Monday, 23 July 2012

तू है.. 
पर है नहीं ..
जुडी ही नहीं

जब  तुझसे ..
क्यों  टूटी सी लगे ?? 

No comments:

Post a Comment