Monday, 13 August 2012

दस्तक से न खुलती हैं कोई दीवार अब

इनमे दरवाजे तो बना दो यारो..

No comments:

Post a Comment