Wednesday, 8 August 2012

व्यर्थ है हर घडी आंसू बहाना 
अपने हृदय को हँसना सिखाना
अलग से पल न मिल सकेंगे 
आज रोये, न जाने कब हँसेंगे..

No comments:

Post a Comment