Saturday, 20 October 2012

यूँ न संजीदा बना मुझको 
हसने का शौक अभी बाकी है मुझमे... 

No comments:

Post a Comment