Saturday, 20 October 2012

थमा दिया है एक टूटे कांच सा अपना वजूद 
अब तेरे हाथ में है बिखरने दे या समेट ले ...

No comments:

Post a Comment