Saturday, 20 October 2012

एक देहलीज़ पर टिका हुआ वक़्त है तू
घर में कहर.. बाहर बेकदर

No comments:

Post a Comment