Wednesday, 7 November 2012


कल के साये को 
आज पर छाने न दो 
आज से आँखे चार करो 
आज को जाया जाने न दो ..

No comments:

Post a Comment