Wednesday, 7 November 2012

खनकते हैं कुछ खामोश लम्हे 
इर्द गिर्द हवाओ में ..
नाज़ुक हैं ओस की बूंदों जैसे ..
बोझ लफ्जों का न डालो इन पर।।।।


khanakte hai kuch lamhe 
ird gird hawao me 
os ki boondo se nazuk hain .. 
bojh lafjo ka na daalo in par!!! 

No comments:

Post a Comment