Thursday, 14 February 2013




दिल बुझ सा जाता है ..

आशाओं के जंगल में 
खो सा जाता है ..
दिल गुमसुम   हो  जाता है ..
कुछ बुझ सा जाता है ..


उम्मीदों के बादल में 

कुछ घुट  जाता है ..


दिल घट सा जाता है ..

कुछ  बुझ  जाता है ..


आँखों में कुछ सपने लेकर 

रोज़ युही सो जाता है ..
सपनो में सपने लेकर
भरमा जाता है ..


कुछ  बुझ सा जाता है ..



सौंप दिया जीवन 

जीवन के हाथो में 
आशाओं को रोंप  दिया 
आशाओं में ..
उम्मीदें झुठला जाता है ..


दिल भर आता है 

कुछ बुझ सा जाता है ..










1 comment: