Thursday, 7 February 2013

मयस्सर थे अरसे से 


रातों के अँधेरे ...


..
महसूस करने दे सूरज की तपिश मुझे



बड़े दिनों बाद उजालों में आई हूँ ..



sks♥

No comments:

Post a Comment