Sunday, 6 October 2013




किंचित एक प्रलोभन ..
स्नेहसिक्त आलिंगन ,

क्षण भंगुर संयम .. 
आतुर मन,

असीमित बंधन ,
असीमित उच्च्श्रनखल  
द्वंदित अंतर्मन,

बोधित  , अर्चित , विकल,
 निर्बाध पलायन ....