Thursday, 6 February 2014

पंछी नीड़ से जब दूर जाने लगें
वक़्त अपना भी आ गया समझो ..

No comments:

Post a Comment