Tuesday, 15 April 2014



कदम रुक जाते हैं हेंगर पर लटकी छोटी छोटी फ्रॉक देखकर 
उँगलियाँ मचल जाती हैं दो चोटियां बनाने को 

No comments:

Post a Comment