Tuesday, 15 April 2014

गहराते वक़्त और ये सँकराते गलियारे 

न यादें, न बातें, और न कारवां 


बस मुसाफिर थके हारे…!!!!

No comments:

Post a Comment