Saturday, 3 May 2014

लाख़ कवायतें 
ढर्रा वही ..


सुकून की नींद 
पर चैन नहीं ..


आँखों से उतर कर ख़्वाब 
रास्तों में मिलते नहीं..

No comments:

Post a Comment