Thursday, 22 May 2014



कानों में गुनगुनाती हैं सदायें तेरी 
हवाओं  ने जब भी मुझे आ कर छेड़ा है। … 

No comments:

Post a Comment