Thursday, 15 January 2015

ज़ेहन में, बेतरतीब कपड़ों की तरह, भरी रहती हैं यादें 
एक निकालो तो न जाने क्या क्या निकल आता है.… 
sks♥

No comments:

Post a Comment