Thursday, 15 January 2015

सपाट अर्थहीन से,
बस शब्द 
मैं तुमसे, तुम मुझसे 
एक से दूसरे को 
हस्तांतरित करते हुए .... 
लेकिन ,
कहना जरुरी है
क्या पता कब
सरस्वती विराजे
और सच में हो जाये
मेरा तुम्हारा
ये साल "हैप्पी ईयर ".... !!!
-sks♥

No comments:

Post a Comment