Thursday, 15 January 2015

शाख़ से गिरते ही ठिकाने बदल जाते हैं 
ओस के बिछौने पर सितारे ओढ़ सो जाते हैं...!!
sks♥

No comments:

Post a Comment