Thursday, 15 January 2015

पता नहीं कितने परदे पड़े हैं आँखों पर
न जाने राज़ हैं ख्वाब हैं या अहसास हैं ....!
sks♥

No comments:

Post a Comment