Saturday, 27 June 2015

सपनों में दिखती है जैसी

हकीक़त में गुज़र जाए
....

ज़िन्दगी सुन, तू यही पे रुकना,


हम ज़माना बदल के आते है.....!!!


sks♥

No comments:

Post a Comment