Tuesday, 15 September 2015

६/८/२०१५ 

जागते रहो
चौकस रहो
दुश्मन को ताड़ते रहो
कोई कर न पाये 
बाल भी बांका
होशियार रहो...
वो करते रहें
जिनका काम है
अपनी सुरक्षा
आप करो ....
सावधान रहो ...!
अनदेखा न करना
अनअपेक्षित ...
गली कूचे नुक्कड़
मकान दूकान
निगरान रहो
सब आगाह रहो...!!!
-शालिनी

No comments:

Post a Comment