Tuesday, 15 September 2015

 १९/८/२०१५ 

हर रात स्याही उगलती नहीं
दिन कोरा सा रह जाता है ...
तुमको उतारूँ कागज़ पर
एक ख़त सा बन जाता है...!!
sks♥

No comments:

Post a Comment