Friday, 11 March 2016

नींद उठती है चौंक चौक कर 
ख्वाब सहम सहम जाते हैं ..!
फासले पर कब तक रहें 
बगल में नींद के सो जाते हैं ..!
नींद को सुला कर आँखों में 
ख्वाब धीरे से, फिर सरक आते हैं..!!
-शालिनी

1.3.2016

No comments:

Post a Comment