Monday, 25 April 2016

तुम 
ताक पर बिसरे असबाब हो जाना
धूल में लिपटे बदरंग हो जाना ..
साल कुछ और बीत जाएं जब
बाकी के दिन घूरे पर बिताना ...!
sks<3
17.4.2016

No comments:

Post a Comment