Tuesday, 23 August 2016

22.8.2016
मन में जितने चोर तुम्हारे 
ताले उतने तुम्हें है प्यारे...!!!
मन के वहमी दिल के काले
लुकते छिपते खुद ही से सारे,
कोई जाने या न जाने
दरवाजों पर ही भेद हैं सारे,
मन में जितने चोर तुम्हारे
उतने ही हैं भेष तुम्हारे ...!!!!

-शालिनी

No comments:

Post a Comment