Wednesday, 24 August 2016

एक दिन जब..
सांस छूट जायेगी
उम्र उम्र हो जायेगी
बस.. एक ज़िन्दगी ..
यहीं रह जायेगी ...!!
बहुत शोर करती है
इर्द गिर्द रहती है न
बस.. एक आवाज़ ..
यहीं रह जायेगी ...!!
उधार ही दे दो कभी
अपनी आँखों से, बातों से
बस ..एक हंसी ..
यहीं रह जायेगी ...!!
-शालिनी
18.6.2016

No comments:

Post a Comment