Tuesday, 23 August 2016

हवा पानी  से तरल होते तो उतर जाते दिलों  में 
मैंने अशआरों  को मिटटी  होते हुए देखा है ..!!

नम आँखों की हैसियत ही क्या..
 लहू किसने पिघलते देखा है..??
-शालिनी
21.8.2016

No comments:

Post a Comment