Wednesday, 24 August 2016

घात आघात से बच सको तुम
पाषाण हृदय कर लिया तुमने,
दुःख कोई दुःख न दे सके
संयम अथक कर लिया तुमने,
भूल गए तुम सुख से सुखी होना

अहसास को परे कर दिया तुमने...!!
sks<3

No comments:

Post a Comment