Wednesday, 24 August 2016

.. 'न ' निराकार हो जाता है
कर्म से, अर्थ से, द्वेष से...
प्रतिबद्धता से, बंधन से ...
मुक्त बहुत सी पीड़ा से ..!!
लौटना नही ..बस आगे ले जाता है 
विशाल हाँ से परे ..
अकर्मण्य, 
निर्भीक सत्यता की ओर...!!!
sks💝

No comments:

Post a Comment