Wednesday, 24 August 2016

ज़िद्दी सी है,

सफ़र करती है,
लौटना भी है...

....तुम तक ...!!!

-शालिनी
24.7.2016

No comments:

Post a Comment